Gulzar Shayari

Top Gulzar Shayari | Gulzar Hindi shayari Collection | Shayari, Quotes

friends आज हम आपको Gulzar Shayari गुलज़ार साहब की शायरी और Quotes Post कर रहे है अगर ये Post आपको अच्छा लगे तो हमारे इस Post को अपने दोस्तों के साथ Share करे | हमारे और भी Post देखे हम आपके लिए Love Shayari, Sad Shayari, Yaad Shayari, Funny Shayari करते रहते है ।

गुलजार साहब की मशहूर शायरी, Gulzar Shayri, QUOTES, STATUS, POETRY & THOUGHTS

Gulzar Shayari
Gulzar Shayari

आँखों से आँसुओं के मरासिम पुराने हैं
मेहमाँ ये घर में आएँ तो चुभता नहीं धुआँ

Aankhon Se Aansuon Ke Maraasim Puraane Hain
Mehamaan Ye Ghar Mein Aaen to Chubhata Nahin Dhuaan


gulzar shayri
gulzar shayri

यूँ भी इक बार तो होता कि समुंदर बहता
कोई एहसास तो दरिया की अना का होता

Yoon Bhee Ik Baar to Hota Ki Samundar Bahata
Koee Ehasaas to Dariya Kee Aana Ka Hota


gulzaar shayari
gulzaar shayari

आप के बाद हर घड़ी हम ने
आप के साथ ही गुज़ारी है

Aap Ke Baad Har Ghadee Ham Ne
Aap Ke Saath Hee Guzaaree Hai


shayari gulzar
shayari gulzar

दिन कुछ ऐसे गुज़ारता है कोई
जैसे एहसान उतारता है कोई

Din Kuchh Aise Guzaarata Hai Koee
Jaise Ehasaan Utaarata Hai Koee


guljar shayri
guljar shayri

आइना देख कर तसल्ली हुई
हम को इस घर में जानता है कोई

Aaina Dekh Kar Tasallee Huee
Ham Ko is Ghar Mein Jaanata Hai Koee


guljar hindi shayri
guljar hindi shayri

तुम्हारी ख़ुश्क सी आँखें भली नहीं लगतीं
वो सारी चीज़ें जो तुम को रुलाएँ, भेजी हैं

Tumhaaree Khushk See Aankhen Bhalee Nahin Lagateen
Vo Saaree Cheezen Jo Tum Ko Rulaen, Bhejee Hain


gulzar shayari in hindi
gulzar shayari in hindi

हाथ छूटें भी तो रिश्ते नहीं छोड़ा करते
वक़्त की शाख़ से लम्हे नहीं तोड़ा करते

Haath Chhooten Bhee to Rishte Nahin Chhoda Karate
Vaqt Kee Shaakh Se Lamhe Nahin Toda Karate


gulzar shayari hindi
gulzar shayari hindi

ज़मीं सा दूसरा कोई सख़ी कहाँ होगा
ज़रा सा बीज उठा ले तो पेड़ देती है

Zameen Sa Doosara Koee Sakhee Kahaan Hoga
Zara Sa Beej Utha Le to Ped Detee Hai


Gulzar Hindi shayari Collection / गुलज़ार साहब की शायरी और ग़ज़ल

gulzar hindi shayari
gulzar hindi shayari

काँच के पीछे चाँद भी था और काँच के ऊपर काई भी
तीनों थे हम वो भी थे और मैं भी था तन्हाई भी

Kaanch Ke Peechhe Chaand Bhee Tha Aur Kaanch Ke Oopar Kaee Bhee
Teenon the Ham Vo Bhee the Aur Main Bhee Tha Tanhaee Bhee


gulzar shayari in hindi
gulzar shayari in hindi

खुली किताब के सफ़्हे उलटते रहते हैं
हवा चले न चले दिन पलटते रहते है

Khulee Kitaab Ke Safhe Ulatate Rahate Hain
Hava Chale Na Chale Din Palatate Rahate Hai


गुलज़ार शायरी
गुलज़ार शायरी

शाम से आँख में नमी सी है
आज फिर आप की कमी सी है

Shaam Se Aankh Mein Namee See Hai
Aaj Phir Aap Kee Kamee See Hai


वो उम्र कम कर रहा था मेरी
मैं साल अपने बढ़ा रहा था

Wo Umr Kam Kar Raha Tha Meree
Main Saal Apane Badha Raha Tha


कल का हर वाक़िआ तुम्हारा था
आज की दास्ताँ हमारी है

Kal Ka Har Vaaqia Tumhaara Tha
Aaj Kee Daastaan Hamaaree Hai


काई सी जम गई है आँखों पर
सारा मंज़र हरा सा रहता है

Kaee See Jam Gaee Hai Aankhon Par
Saara Manzar Hara Sa Rahata Hai


उठाए फिरते थे एहसान जिस्म का जाँ पर
चले जहाँ से तो ये पैरहन उतार चले

Uthae Phirate the Ehasaan Jism Ka Jaan Par
Chale Jahaan Se to Ye Pairahan Utaar Chale


सहर न आई कई बार नींद से जागे
थी रात रात की ये ज़िंदगी गुज़ार चले

Sahar Na Aaee Kaee Baar Neend Se Jaage
Thee Raat Raat Kee Ye Zindagee Guzaar Chale


गुलज़ार साहब के कुछ कोट्स और शायरी

कोई न कोई रहबर रस्ता काट गया
जब भी अपनी रह चलने की कोशिश की

Koee Na Koee Rahabar Rasta Kaat Gaya
Jab Bhee Apanee Rah Chalane Kee Koshish Kee


कितनी लम्बी ख़ामोशी से गुज़रा हूँ
उन से कितना कुछ कहने की कोशिश की

Kitanee Lambee Khaamoshee Se Guzara Hoon
Un Se Kitana Kuchh Kahane Kee Koshish Kee


कोई अटका हुआ है पल शायद
वक़्त में पड़ गया है बल शायद

Koee Ataka Hua Hai Pal Shaayad
Vaqt Mein Pad Gaya Hai Bal Shaayad


आ रही है जो चाप क़दमों की
खिल रहे हैं कहीं कँवल शायद
Aa Rahee Hai Jo Chaap Qadamon Kee
Khil Rahe Hain Kaheen Kanval Shaayad


तुझे पहचानूंगा कैसे? तुझे देखा ही नहीं
ढूँढा करता हूं तुम्हें अपने चेहरे में ही कहीं

Tujhe Pechanoonga Kaise? Tujhe Dekhaa Hi Nahin!
Dhoondhaa Karta Hoon Tumhen, Apne Chehare Men Kahin


Gulzar Shayari in Hindi Pdf

लोग कहते हैं मेरी आँखें मेरी माँ सी हैं
यूं तो लबरेज़ हैं पानी से मगर प्यासी हैं

Log Kahte Hain Meri Aankhen, Meri Maa,n Si Hain.
Yoon To Labrez Hain Paani Se Magar Pyasi Hai,


Gulzar Shayari Pdf

कान में छेद है पैदायशी आया होगा
तूने मन्नत के लिये कान छिदाया होगा

Kaan Men Chhed Hai Paidayashi aaya hoga
Toone mannat ke liye Kaan Chhidaya Hoga


Shero Shayari of Retirement

बहुत मुश्किल से करता हूँ, तेरी यादों का कारोबार,
मुनाफा कम है, पर गुज़ारा हो ही जाता है

Bahut Mushkil Se Karata Hun Teri Yaadon Ka Karobar,
Munafa Kam Hain, Par Guzara Ho Jata Hain..


Short Romantic Shayari

सुनो….ज़रा रास्ता तो बताना.
मोहब्बत के सफ़र से, वापसी है मेरी..

Suno… Jara Rasta To Batana.
Mohabbat Ke Safar Se Wapasi Hain Meri


Gulzar Hindi shayari Collection / गुलज़ार साहब की शायरी और ग़ज़ल

आज हर ख़ामोशी को मिटा देने का मन है
जो भी छिपा रखा है मन में लूटा देने का मन है..

Aaj Har Khamoshi Ko Mita Dene Ka Man Hain..
Jo Bhi Chhupa Rakha Hain Man Me, Luta Dene Ka Man Hain.


Missing Shayari for Husband

सामने दाँतों का वक़्फा है तेरे भी होगा
एक चक्कर तेरे पाँव के तले भी होगा

Samane Daanton Ka Vaqpha Hai Tere Bhee Hoga
Ek Chakkar Tere Paanv Ke Tale Bhee Hoga


One Side Love Shayri in Hindi

जाने किस जल्दी में थी जन्म दिया, दौड़ गयी
क्या खुदा देख लिया था कि मुझे छोड़ गयी

Jaane Kis Jaldee Mein Thee Janm Diya, Daud Gayee
Kya Khuda Dekh Liya Tha Ki Mujhe Chhod Gayee


Shayari by Gulzar on Love

Aa.ina Dekh Kar Tasallī Huī
Ham Ko is Ghar Meñ Jāntā Hai Koī


Gulzar 2 Line Shayari

Shaam Se Aañkh Meñ Namī Sī Hai
Aaj Phir Aap Kī Kamī Sī Hai


Gulzar Shayri on Life

Zindagī Yuuñ Huī Basar Tanhā
Qāfila Saath Aur Safar Tanhā


Gulzar Shayari on Life

Kabhī to Chauñk Ke Dekhe Koī Hamārī Taraf
Kisī Kī Aañkh Meñ Ham Ko Bhī Intizār Dikhe


गुलजार साहब की शायरी

Vaqt Rahtā Nahīñ Kahīñ Tik Kar
Aadat is Kī Bhī Aadmī Sī Hai


Shayari by Gulzar

Ādatan Tum Ne Kar Diye Va.ade
Ādatan Ham Ne E’tibār Kiyā


Gulzar Sahab Shayari

Aap Ke Ba.ad Har Ghaḍī Ham Ne
Aap Ke Saath Hī Guzārī Hai


gulzar shayari in hindi font

Haath Chhūteñ Bhī to Rishte Nahīñ Chhoḍā Karte
Vaqt Kī Shāḳh Se Lamhe Nahīñ toḍā Karte


shayari of gulzar

Ham Ne Aksar Tumhārī Rāhoñ Meñ
Ruk Kar Apnā Hī Intizār Kiyā

Also like read more :- Attitude Shayari Shayari

Leave a Reply